यूपीए सरकार के ‘घोटालेबाज’


रेलवे में प्रमोशन के लिए घूस का मामला सामने आया है। सीबीआई ने रेल मंत्री पवन कुमार बंसल के भांजे विजय सिंगला को रेलवे में प्रमोशन दिलाने के नाम पर रेलवे बोर्ड के मेंबर से 90 लाख रुपए की रिश्वत लेने के आरोप में गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि सिंगला ने पहले महेश कुमार से प्रोमोशन के लिए 10 करोड़ रुपये की मांग की थी, जो बाद में 2 करोड़ रुपये पर तय हुई। पहली किस्त 90 लाख रुपये की थी। हालांकि, रेल मंत्री का कहना है कि उनका इस मामले से लेना-देना नहीं है।

यूपीए सरकार घोटालों की सरकार बन गई है। लीजिए, गिनिए उनके घोटाले…

पढना जारी रखे

Advertisements

टेप जो कहते हैं


एक वक्त था जब संपादकों को देखा या सुना नहीं, केवल पढ़ा जाता था। इस ‘आइवरी टॉवर’ रवैये की बेहतरीन मिसाल 1960 के दशक के एक शीर्ष संपादक एनजे नानपोरिया थे। एक बार जब वह बाजार में खरीदारी कर रहे थे, उन्होंने पाया कि एक शख्स लगातार उन्हें देखकर मुस्करा रहा है। कौतूहलवश उन्होंने पूछा कि वह कौन है। उसने कहा, ‘मैं आपका चीफ रिपोर्टर हूं सर!’ मुमकिन है कि यह किंवदंती हो, लेकिन यह बताती है कि किस तरह गुजरे जमाने के संपादक कभी-कभार ही अपने केबिन से बाहर कदम रखते थे। आज के टेलीविजन युग में स्थिति बिल्कुल उलट चुकी है, जहां संपादक-एंकर फौरन पहचान ली जाने वाली सेलेब्रिटी बन चुके हैं।

पढना जारी रखे