आपका स्वागत है हिंदी की अनोखी दुनिया “हिंदी पटल” में…


Hindi_Patal

निज भाषा उन्नति अहै, सब उन्नति को मूल, बिन निज भाषा-ज्ञान के, मिटत न हिय को सूल।
अंग्रेजी पढ़ि के जदपि, सब गुन होत प्रवीन, पै निज भाषा-ज्ञान बिन, रहत हीन के हीन।-भारतेन्दु हरिश्चन्द्र

हमने इक शाम चराग़ों से सजा रक्खी है, शर्त लोगों ने हवाओं से लगा रक्खी है.

हिन्दी पटल का उद्देश्य – हिन्दी में विविध सामग्री प्रस्तुत करने का प्रयास!

पढना जारी रखे

Advertisements